SIP Kya Hai In Hindi, SIP में निवेश कैसे करे 2023, Advantage And Disadvantage

SIP Kya Hai In Hindi, SIP क्या है हिंदी में

SIP Kya Hai In Hindi, SIP का मतलब होता है Systematic Investment Plan इसको शार्ट में एसआईपी कहा जाता है| आप एसआईपी में निवेश कम पैसे से शुरू कर सकते हैं, कम पैसा का मतलब 100, 500 या 1000 रुपये से शुरुआत कर सकते है, आप चाहे तो अपने इनकम के हिसाब से ज्यादा पैसों से भी शुरुआत कर सकते हैं। SIP Me Nivesh Kaise Kare

SIP Kya Hai In Hindi, SIP Kya Hai Hindi Mein

SIP Kya Hai In Hindi, SIP Kya Hai Hindi Mein

SIP Kya Hai In Hindi

Systematic Investment Plan (SIP) अभी के समय में यह काफी पॉपुलर है| SIP Kya Hai In Hindi के जरिए म्‍यूचुअल फंड में भी निवेश किया जाता है| अगर आप एसआईपी के जरिए निवेश करते है तो, आपको बाजार के उतार-चढ़ाव से जुड़े बहुत कम जोखिम का सामना करना पड़ता है| आप SIP में हर महीने 100-500 रुपए के छोटे निवेश से रुआत कर सकते हैं| 

sip kya hai hindi mein एसआईपी(SIP) एक सरल और सुविधाजनक निवेश योजना है, इसके तहत आप अपने इक्क्षा अनुसार छोटी-छोटी राशि से निवेश कर सकते है। इस योजना के तहत आप म्यूचुअल फंड में बहुत ही आसानी से निवेश कर सकते है। अगर आपका मासिक आय कम है तो भी आप SIP के जरिये छोटे रकम से निवेश कर सकते है| sip kya hai hindi mein

पैसे बचाने के लिए सबसे बेहतरीन रास्ता एसआईपी है, इसमें निवेशक के ऊपर किसी तरह का कोई बोझ नहीं पड़ता है। आप अपने आय के हिसाब से sip kya hai hindi mein में निवेश करके अच्छा रिटर्न बना सकते है।

SIP Kya Hai In Hindi में निवेश करने के लिए इंटरनेट पर कई प्लेटफॉर्म जैसे की एप्प वेबसाइट है। अगर आप SIP में  निवेश करना चाहते है तो इसके लिए आपको कहीं भी आने-जाने की कोई जरूरत नहीं पड़ता है, आप आसानी से इन्टरनेट के द्वारा अपने ही मोबाइल से SIP में निवेश कर सकते है। अभी के समय में पैसों का बचत करना बहुत ही जरुरी है, यह बचत किया हुआ रकम से इमरजेंसी की स्थिति में मदद करता हैं।

एसआईपी का full form Systematic Investment Plan होता है यानी कि व्यवस्थित निवेश योजना है। उदाहरण के लिए मान लीजिये की, किसी कंपनी के Mutual Fund का NVA 100 रुपये है, अगर आप इस फंड में 1000 रुपये का निवेश  करते है तो उस कंपनी का 10 यूनिट निवेशक यानि की आपको मिल जाएगा। कम-से-कम एक साल के लिए इस फण्ड को होल्ड कर दीजिये इस फंड को तब बेचे जब बाजार में इसका NVA का मूल्य PRICE 200 रुपये हो जाए, तब 1000 रुपये का फायदा फायदा आपको मिल सकता हैं।

एसआईपी के लिए डॉक्युमेंट्स, Documents For SIP In Hindi

एसआईपी में निवेश के लिए कुछ जरुरी डॉक्यूमेंट चाहिए होते हैं। म्यूचुअल,  शेयर मार्केट फंड क्रिप्टोकरेंसी में निवेश (Investment) करने के लिए या फिर किसी भी बैंकिंग सेवाओं को लेने के लिए कुछ आवश्यक डॉक्यूमेंट चाहिए होता हैं जो की निचे दिया गया है।

  1. पैन कार्ड
  2. आधार कार्ड
  3. बैंक स्टेटमेंट
  4. बैंक अकाउंट
  5. चेक बुक
  6. पासपोर्ट साइज फोटो
  7. आधार कार्ड से मोबाइल नंबर लिंक होना चाहिय ( ये ऑनलाइन के लिए नए Fitchers है ), sip kya hai hindi mein

ये सभी डॉक्यूमेंटस होने पर आप आसानी से एसआईपी में निवेश कर सकते है, इसके आप लिए ऑनलाइन एप्लीकेशन या वेबसाइट के जरिए अपना अकाउंट बना कर निवेश बहुत आसानी से कर सकते हैं।

डीमेट अकाउंट आसानी से ओपन करने के लिए इन सभी डॉक्युमेंट्स के जरुरत पड़ेगी । किसी भी Mutual फण्ड में  में निवेश करने के लिए full KYC की प्रक्रिया करवाना बहुत जरुरी है। बिना KYC के निवेश नहीं किया जा सकता है। KYC  में DATE OF BIRTH , NAME , EMAIL ID , MOBILE NUMBER , ADRESS PROOF , बैंक डिटेल्स जैसी जानकारी दर्ज करना पड़ता है।

KYC प्रक्रिया को आप अपने सुविधा के अनुसार ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन भी कर सकते हैं। sip kya hai hindi me

SIP में निवेश कैसे करे, SIP Me Nivesh Kaise Kare

SIP Kya Hai In Hindi, SIP Kya Hai Hindi Mein, SIP में निवेश कैसे करे, SIP Me Nivesh Kaise Kare

SIP Me Nivesh Kaise Kare एसआईपी शुरू करना बहुत ही आसान है। SIP में दो तरह से निवेश किया जाता है, पहला Direct Plan और दूसरा Regular Plan में आसानी से निवेश करना Start किया जा सकता है। Direct Plan  में कोई बिच का आदमी या फिर कोई Broker नहीं होते है। Direct Plan में किसी भी कंपनी की योजना में डायरेक्ट AMC के जरिए निवेश किया जा सकता हैं। इस प्लान में अच्छा खासा रिटर्न निवेशक को हासिल होता है।

 निवेश के शुरूआती दौर में या नए निवेशक (Invester ) के लिए ये प्लान सही नहीं है, क्योंकि इस प्लान में कोई गाइड करने या आपको समझाने के लिए नहीं होता है, जिसके कारन नुकसान होने के चांस बढ़ जाता हैं। नए निवेशक होने के कारन ज्यादा जानकारी न होने पर मार्केट का एनालिसिस करने में थोरा मुश्किले सामने आती है, इसी कारण से निवेशक को नुकसानो का सामना करना पड़ता है।

Regular Plan में बिच का आदमी ( मिडिल मेन) या Broker शामिल होते हैं, इसमें Broker AMC से स्किम खरीद लेते हैं। उसके बाद वे निवेशक के जरिए निवेश करवाते हैं। इसलिए नए निवेशक (Invester)  को नुकसान कम होने के चांसेस होते हैं। Regular Plan में  Broker अपनी कुच्छ फ़ीस निशक को चार्ज करते हैं। अभी ज्यादातर निवेशक इसी प्लान में ही निवेश करते हैं। इस Plan में Broker निवेशक को एक सही Mutual Fund में निवेश करने के लिए सिफारिश करते हैं, इससे निवेशक को भी निवेश करने में आसानी होती है।

SIP में रिस्क क्या है,

 

कही भी पैसा निवेश करने या पैसा लगाने में कुछ-न-कुछ रिस्क होते हैं, उसी तरह यहां भी निवेश करने में कुछ रिस्क की आशंका होती है। SIP की शुरुआत छोटे फंड से करना चाहिए होता है, इसलिए SIP में ज्यादा रिस्क की आशंका कुल मिला कर खत्म ही हो जाती है। अगर आप किसी ऐसी कंपनी के SIP में निवेश करते है जो की पहले से ही घाटे में चल रही है और पिछले कुछ वर्षो से मुनाफा नहीं कमा पा रही है तो ऐसे स्थिति में आपके पैसे डूबने के चांसेस बढ़ जाती हैं।

SIP में निवेश कभी भी कम समय के लिए नहीं करना चाहिए  कम वक्त के लिए निवेश किया जाए तो नुकसान उठाना पड़ सकता है। SIP में लंबे समय के लिए निवेश करने पड़ नुकसान होने के चांसेस बहुत कम हो जाते हैं। अगर आपका कोई SIP चल रहा है या फिर स्टार्ट करना चाहते है तो उस जारी SIP को दो-तीन महीने में तोड़ देते है तब SIP प्रक्रिया पूरा न होने के कारन निवेशक को नुकसान हो सकता है। अगर आप किसी कंपनी के SIP में निवेश करते है और उस  कंपनी को अचानक से किसी क्राइसिस का सामना करना पड़े तो उस स्थिति में विवेशक को नुकसान हो सकता है।

एसआईपी के फायदे, Benefits Of SIP In Hindi

  1. SIP में निवेश करने के बहुत सरे फायदे हैं, इसको आप ऐसे समझिये की अगर इनकम टैक्स स्लैब के दायरे में आते हैं और आप इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते है, तो उसके लिए आपको SIP  फायदेमंद होगा क्योंकि इससे आपको टैक्स रिटर्न में छूट मिल सकता है।
  2. SIP आपको धन बचत करने का एक बेहतरीन प्लेटफार्म है। SIP  में आपके ऊपर यह बोझ नहीं होता कि आपको हर महीना पैसा देना ही हैं, आप चाहे तो अपने सुविधा के अनुसार सालाना निवेश भी कर सकते है, जिससे की  आपको अच्छा खासा पैसा इकठ्ठा हो जाता है।
  3. जो निवेशक ज्यादा रिस्क नहीं लेना चाहते, उन लोगो के लिए SIP एक बहुत ही बढ़िया विकल्प है।
  4. SIP में कंपाउंडिंग का फायदा मिलता है, अगर लंबे समय के लिए निवेश किया जाता है तो ज्यादा मुनाफा होता है।
  5. अगर शेयर बाजार में रिटर्न की दर बढ़ रहा है, तो SIP में निवेश बढ़ सकता हैं।
  6. SIP बाजार में गिरावट आने पर निवेशक चाहे तो कुछ समय के लिए इसको रोका भी जा सकता हैं, फिर जब बाजार में सुधार हो जाता है वापस से निवेशक अपने SIP चालू कर सकते हैं।
  7. बैंक के द्वारा ऑटो SIP का भी सुविधा ले सकते हैं, इस सुविधा से निवेशक को कहीं भी जाने-आने की जरूरत नहीं पड़ती है।

SIP के नुकसान हिंदी में, Disadvantages Of SIP In Hindi

  1. अगर आप SIP मिस कर दी है तो आपको नुकसान हो सकता है।

  2. SIP करने के लिए निवेशक को हर महीने पैसों की जरूरत पड़ती है, SIP में निवेश के लिए पैसो का  इंतजाम निवेशक को ही करना पड़ता है।

  3. SIP नुकसान होने की भी आशंका रहती है।

  4. जब बाजार में उतर-चढ़ाव होता है तो उस समय अच्छा रिटर्न नहीं मिलता है।

  5. अगर निवेशक को  नियमित आय का स्रोत नहीं है तो SIP न भर पाने पर नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

SIP FULL FORM IN HINDI, SIP FULL FORM

यह भी पढ़े 

निष्कर्ष,

इस प्रकार, ऊपर दिए गए सूचक के अनुसार, हम ये  निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि SIP में निवेश शुरू करना बहुत ही आसान है। हालांकि, निवेशक को किसी भी योजना का चयन करते समय योजना की कार्यप्रणाली को पूरी तरह से समझना चाहिए और सावधान रहना चाहिए ताकि वे योजना से निवेशक को अधिकतम रिटर्न मिल सकें और साथ ही यह सुनिश्चित कर सकें कि उनका निवेश किया गया पैसा सुरक्षित हाथों में है।

पूछे जाने वाले प्रश्न, FAQs

Q. 1. एक स्थायी एसआईपी क्या है?

Ans:- जैसा कि SIP नाम से ही पता चलता है की , एक स्थायी SIP वह है जिसकी मैंडेट तिथि समाप्त नहीं होती है। अगर आप एक साल, तीन साल  या फिर पांच साल के बाद एक स्थायी SIP समाप्त कर सकते हैं। दूसरे शब्दों में, आप अपनी आवश्यकता के हिसाब से निवेश कर सकते हैं या निवेश किये गए पैसो में से निकाल भी  सकते हैं। SIP Me Nivesh Kaise Kare

Q. 2. क्या एसआईपी केवाईसी के अनुरूप है?

Ans:- हां, एसआईपी केवाईसी के अनुरूप हैं क्योंकि ये म्यूचुअल फंड के अंतर्गत आते हैं। आपको अपने केवाईसी दस्तावेज जमा करने होंगेबैंक या वित्तीय संस्थान जिसके माध्यम से आप एसआईपी निवेश कर रहे हैं। यह एक बार की अनुपालन प्रक्रिया है।

Q. 3. टॉप-अप एसआईपी क्या है?

Ans:- यदि आपके एसआईपी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं, तो आप टॉप-अप एसआईपी में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं। ये SIP अपने निवेशको को नियमित अंतराल पर निवेश के रकम को बढ़ाने की भी अनुमति देती  हैं। इसी तरह आप उच्च प्रदर्शन करने वाले SIP फंड में निवेश कर सकते हैं और और निवेश किये गए रकम से अच्छा रिटर्न पा सकते हैं।

Q. 4. लचीला एसआईपी क्या है?

Ans:- एक लचीले एसआईपी में, आप बढ़ा या घटा सकते हैंनकदी प्रवाह अपनी इच्छा के अनुसार। दूसरे शब्दों में, जब आप चाहें, आप अपना निवेश बढ़ा सकते हैं, और जब आपको पैसे की जरुरत हो तो आप अपने निवेश आपके पास पैसे न हो तो अपने सुविधा के अनुसार निवेश के रकम को कम कर सकते हैं। आपको याद बस इतना रखना है कि नियमित अंतराल पर कुछ-न-कुछ निवेश करन होगा।

Q. 5. SIP में निवेश करने के लिए मुझे किन-किन दस्तावेजों की जरुरत होगी?

Ans:- SIP में निवेश करने के लिए, आपको अपनी एक कॉपी की आवश्यकता होगीपैन कार्ड, एक पता प्रमाण जैसे आपका आधार कार्ड या पासपोर्ट, और बैंक खाता विवरण। कृपया किसी योजना में निवेश करने से पहले उस योजना के सूचना के बारे में लिखित कागजात के साथ ससत्यापित करें।

Q. 6. निवेश के लिए सबसे अच्छा SIP कौन सा है मूल्यांकन कैसे करें?

Ans:- सबसे पहले जब आप SIP में निवेश करते हैं तो यह आवश्यक है कि आप कितने पैसो से निवेश करना चाहते हैं, पहले इसका मूल्यांकन करें। उसके बाद अगली चीज यह है जो आपको तय करनी चाहिए वो ये है SIP  का प्रदर्शन। उसके बाद, निवेश और रिटर्न के आधार पर आपकी आवश्यकताओं को पूरा करने वाले एसआईपी का चयन करें और निवेश शुरू करें।

दोस्तों मै आशा करता हु की ये पोस्ट SIP Kya Hai In Hindi आप लोगो को बहुत अच्छी तरह से समझ में आ गया होगा आप भी अब SIP Kya Hai In Hindi के जरिये SIP मतलब समझ गए होंगे आप अपना ये जानकारी अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये |

2 thoughts on “SIP Kya Hai In Hindi, SIP में निवेश कैसे करे 2023, Advantage And Disadvantage”

Leave a Comment