Technical Analysis Kya Hai| Basic Concepts, Advantage, कैसे करे?2023

Technical Analysis Kya Hai – यह कैसे सीखे?

पिछले कुच्छ पोस्ट में हमने Technical Analysis के बारे में जिक्र किया है, इसलिए हम यह पोस्ट Technical Analysis Kya Hai लिख रहे है ताकि जो लोग नहीं जानते है की Share Market Me Technical Analysis Kaise Kare, Technical Analysis Kaise Sikhe या फिर Technical Analysis Kya Hai होता है उन लोगो के लिए यह पोस्ट बहुत ही फायदेमंद होने वाला है| इसलिए दोस्तों अगर आप भी नहीं जानते है की Technical Analysis Kya Hai तो इस पोस्ट को पूरा जरुर पढ़े|

टेक्निकल एनालिसिस क्या है? Technical Analysis Kya Hai

Technical Analysis Kya Hai

Technical Analysis Share Market में निवेश के लिए एक विशेष प्रकार का विश्लेषण है|इस Analysis के सहायता से Share Market के Price के रुझान को भविष्यवाणी किया जाता है की share का प्राइस ऊपर जायेगा या निचे गिरेगा| यह Analysis करते समय Share Market में पिछले मूल्य और market में रुझान का अध्ययन किया जाता है|ये सभी जानकारी प्राप्त करने के बाद अगले दिन या फिर अगले ट्रेड के लिए Technical Analysis कर के Share Bazar में Share के प्राइस का अनुमान लगा सकते है की प्राइस ऊपर जायेगा या फिर प्राइस गिरेगा| यह Analysis करने से आपको प्रॉफिट होने का चांसेस बढ़ जाता है|

Technical Analysis का मूल्य उदेश यह है की पिछले मूल्य के रुझान का विश्लेषण करके भविष्य में share के कीमतों में आने वाले रुझान का पता लगाना है| Technical Analysis, Fundamental Analysis से बहुत ही अलग है, Technical Analysis हर दिशा से निवेश का मूल्यांकन तथा एक एसेट को प्रभावित करने वाला गुणात्मक और मात्रात्ममक करक के Analysis पर केन्द्रित है|

Share Market Me Technical Analysis Kaise Kare

अगर आप चाहते है की Share Market Me Technical Analysis Kaise Kare तो आपको कैंडलस्टिक्स पैटर्न के बारे में जानना जरुरी है| Youtube पर Technical Analysis से सम्बंधित बहुत सरे कंटेंट परे हुए है मेरा सुझाव यह रहेगा की आप Youtube पर पुष्कर राज ठाकुर का विडियो देखे और प्रैक्टिकल करे| ये Technical Analysis के बारे में बहुत बढ़िया से समझाते है मुझे तो इनका विडियो बहुत बढ़िया से समझ में आ जाती है, अगर आप इनका विडियो देखते है तो आपके मन से Share Market Me Technical Analysis Kaise Kare यह सवाल ख़त्म हो जायेगा और आप Analysis करना सिख जाओगे|

बहुमुखी प्रयोग – Technical Analysis Kya Hota Hai

चलिए अपने जिंदगी में रोज की चलने वाली दो गतिविधियां को लेते है, खाना बनाना और ड्राइविंग| अब ये इस बात पर ध्यान दीजिये की खाना बनाने के लिए सभी अलग-अलग व्यंजन के लिए अलग-अलग रेसिपी का उपयोग किया जाता है| आप एकही रेसिपी से दो प्रकार के अलग-अलग वयंजन नहीं बना सकते है, या फिर अलग-अलग स्वाद का उम्मीद नहीं रख सकते है| इसके अलावा आप जब भी नए प्रकार के व्यंजन बनाते है तो आपको अलग-अलग सामग्री का उपयोग करने और अलग विधि का पालन करने की जरुरत होती है|Technical Analysis Kya Hai| Basic Concepts, Advantage, कैसे करे?2023share market me technical analysis kaise kare

Fundamental Analysis सेम इसी तरह से काम करता है| जैसे की सभी एसेट के फंडामेंटल पूरी तरह से अलग-अलग होती है| इसीलिए उन मूल्य सिधांत के Analysis के प्रक्रिया अलग-अलग निवेश के लिए बदलते रहता है| Equity Share का Fundamental Analysis करने के लिए आपको उस उधोग का मूल्यांकन करना होगा, कंपनी का आकलन करे फिर फाइनेंशियल्स विश्लेषण करने के बाद share के मूल्य पर पहुचना होता है| उदहारण के लिए अगर आप एक अलग एसेट जैसे की कृषि Fundamental Analysis करते रहे है तो उस समय आपको ये  दृष्टिकोण उस पर कम नहीं करेगी|

इस स्थिति में आपको कुच्छ अलग पहलु पर ध्यान देने की जरुरत होती है, जैसे की मौसम का पैटर्न, फसल का चक्र, फसल का मांग और उसकी आपूर्ति| अब आप इस Fundamental Analysis को सिर्फ कृषि उत्पाद के लिए उपयोग कर सकते है|

लेकिन Share Market Me Technical Analysis Kaise Kare ये बहुत ही आसन है,  Technical Analysis का केंद्रीय धारणा एक ही होता है| इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है की आप किस तरह के एसेट के लिए मूल्यांकन कर रहे है| इसको आसन भाषा में आप समझो तो या प्रक्रिया काफी हद तक मोटर साइकिल चलाने के जैसा होता है, मान लीजिये की आप एक बार मोटर साइकिल चलाना सिख लिए तो व्यावहारिक रूप से आप कोई भी मोटर साइकिल चला सकते है| इसमें थोरे बहुत बदलाव हो सकते है, लेकिन टेकनिक कुच्छ हद तक एक सामान ही रहता है|

Technical Analysis भी इसी तरह के होते है, इस Analysis को अगर आप एक बार सिख लेते है तो इसको आप किसी भी एसेट के ऊपर लागु कर सकते है| सभी एसेट के लिए Technical Analysis का डाटा काफी हद तक समान ही रहता है, Technical Analysis में High Price Point, Low Price Point इसके साथ Asset की मात्रा इत्यादि सामिल होता है| यही कारन है की Technical Analysis एक बहुमुखी Nivesh विश्लेषण तकनीक है, इसे विभिन्न प्रकार के Asset पर लागु किया जा सकता है|

टेक्निकल एनालिसिस की मूल धारणाएँ – Basic concepts of technical analysis

अभी आप पढ़ रहे है Technical Analysis Kya Hai, अब आप जानते है की जब भी विश्लेषण के मैट्रिक्स के बात आती है, तब Technical Analysis बहुत ही सीधा और सरल है| Technical Analysis केवल पिछले मूल्य तथा एसेट के मात्रा पर केन्द्रित है|

लेकिन अब आप जानते हैं कि जब Technical Analysis के मैट्रिक्स की बात आती है, तो टेक्निकल एनालिसिस बहुत सीधा और सरल है। यह तकनीक केवल पिछले मूल्य और एसेट के व्यापार की मात्रा पर केंद्रित है और इस जानकारी के सहारे भविष्य में आने वाले रूझानों का अनुमान लगाया जाता है।

इसलिए पिछले डाटा और संभावित भविष्य रूझानों के बीच संबंध स्थापित करने के लिए कुछ धारणाओं या अनुमानों की आवश्यकता होती है। यहां टेक्निकल एनालिसिस की तीन मुख्य धारणाएं हैं:

बाज़ार सब जानता है 

कुशल बाज़ार परिकल्पना याद होगा? जो मानती है कि बाज़ार सभी प्रकार की जानकारी का हिसाब लगाकर उसके प्रभाव को कंपनी के शेयरों के कीमत में शामिल कर लेता है, चाहे वह जानकारी सार्वजनिक हो या फिर निजी अथवा ऐतिहासिक। शेयर और अन्य एसेट्स का Technical Analysis भी कुछ इसी प्रकार से काम करता है। यह तकनीक इस धारणा पर आधारित है कि कोई भी जानकारी जो किसी एसेट के लिए अहम है वह पहले से ही उस एसेटकी कीमत में शामिल है। दूसरे शब्दों में, बाज़ार पहले से ही सभी उपलब्ध और अफ़वाह जैसी जानकारियों को भी एसेट या share के कीमत में शामिल कर देता है।

Technical Analysis ये अध्ययन करते हैं कि इस सारी जानकारी के संबंध में शेयर की कीमत में किस तरह की प्रतिक्रिया होगी। और एसेट की कीमत के रूझानों के आधार पर Analysis यह निर्धारित करते हैं कि वह एसेट खरीदने के लिए ठीक है या नहीं।technical analysis kya hota hai

शेयर बाज़ार  कीमतें रूझानों पर चलती हैं

Technical Analysis के संबंध में हम जिन मूल्य रूझानों की बात करते रहते हैं वो कोई अनियमित रूझान नहीं है, कम से कम Technical Analysis तो यही मानता है। इसके अनुसार, मूल्य में परिवर्तन हमेशा एक निर्धारित बाज़ार में रुझान पर या एक सेट पैटर्न पर चलता है, चाहे वो Bullish / तेज़ी(ऊपर की ओर) का हो या Bearish/ मंदी (नीचे की ओर )का। ऐसे पैटर्न को समय के साथ पहचाना जा सकता है। एक बार कीमत के रुझान स्थापित हो जाएं, तो शेयर और अन्य एसेट्स का टेक्निकल एनालिसिस यह मानता है कि एसेट उसी दिशा में चलता रहेगा, जब तक कि कोई नया रुझान नहीं आ जाता।technical analysis kaise sikhe

ये ट्रेंड या रुझान, प्रकृति के आधार पर छोटी, मीडियम या लंबी अवधि के हो सकते हैं। अगर आप शॉर्ट टर्म ट्रेडर हैं तो आपको छोटी-अवधि के ट्रेंड चार्ट को देखने की आवश्यकता होगी जो प्रति घंटा या मिनट-दर-मिनट के रूझानों को प्लॉट करता है। दूसरी ओर, अगर आप एक लॉन्ग टर्म ट्रेडर हैं तो आपके लिए साप्ताहिक या मासिक चार्ट अधिक उपयोगी साबित होगा।

इतिहास खुद को दोहराता है

यह शायद टेक्निकल एनालिसिस की सबसे मौलिक धारणा है। यह तकनीक मानती है कि मूल्य रुझान समय के साथ खुद को दोहराते है, क्योंकि मानव व्यवहार का एक निर्धारित तौर  पर ही काम करता है। उदाहरण के तौर पर, जब बाज़ार में तेज़ी होती है और शेयर की कीमतें बढ़ रही होती हैं , तब भी ट्रेडर ऊँची कीमतों के बावजूद खरीदारी करते हैं, क्योंकि वो मानते हैं कि मूल्य आगे भी बढ़ते रहेंगे, और वो अभी शेयर खरीदकर उस बढ़ोतरी का फायदा उठा सकते हैं। इसी तरह मंदी के बाज़ार में लोग गिरती कीमतों के समय अपने एसेट्स को बेचने लगते हैं।

ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि हर बार मानव व्यवहार इसी तरह काम करता है, इसलिए share के  मूल्यों के रुझान भी हमेशा समान ही रहते हैं। और इस धारणा के आधार पर Technical Analysis अतीत की कीमतों के पैटर्न का अध्ययन करता है ताकि, यह अनुमान लगाया जा सके कि भविष्य में रुझान किस तरह से काम करने वाली है।

Oil And Gas Refinery में पाइपिंग से सम्बंधित जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

निष्कर्ष

इन सभी प्राइस पैटर्न का अध्ययन करने के लिए Technical Analysis विभिन्न प्रकार के चार्ट पैटर्न का उपयोग करता है। अगर आप चार्ट के प्रकारों के बारे में और कैंडलस्टिक्स- जो टेक्निकल एनालिसिस में सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला चार्ट है, के बारे में अधिक अधिक जानने के लिए उत्सुक हैं तो आप हमें कमेंट कर के बताये हम उस विषय पर भी बात करेंगे जो आप चाहते है|

3 thoughts on “Technical Analysis Kya Hai| Basic Concepts, Advantage, कैसे करे?2023”

Leave a Comment